Advertisements

मुर्गी पालन का व्यापार बिजनेस कैसे शुरू करें | Poultry Farming Business Plan in Hindi 2021

Advertisements

मुर्गी पालन या कुक्कुट पालन का व्यापार कैसे शुरू करे 2021 | How to Start Layer Poultry Farming Business for beginners, benefits, income in India in hindi :- दूध और अंडा इस समय सभी लोगों द्वारा ग्रहण किया जाता है। इसके लिए कई जगहों पर पोल्ट्री फॉर्म और डेरी फॉर्म की स्थापना की जाती है। इन पोल्ट्री और डेयरी फार्म की स्थापना का मुख्य उद्देश्य पशुपालन और व्यापार होता है। अतः ये व्यापार एक बहुत ही अच्छा और सुखद अनुभूति देने वाला काम है।

हमारे देश में Poultry Farming Business से ब्रायलर युवा नर व मादा चिकन मांस का लगभग 2.47 मिलियन मीट्रिक टन का उत्पादन प्रतिवर्ष हो रहा है, जो दुनिया का पांचवा सबसे बड़ा ब्रायलर उत्पादन है। भारत में प्रति व्यक्ति अंडे की खपत ग्रामीण क्षेत्र में लगभग 8% तथा शहरी क्षेत्रों में लगभग 18 से 20 % प्रतिवर्ष है।

आजकल बाजार में मुर्गे-मुर्गियों की मांग बहुत बढ़ गयी है ऐसे में आप अगर कोई लो इन्वेस्टमेंट बिज़नस करना चाहते हैं तो Poultry Farm Business in India का यह व्यवसाय आपके लिए बेस्ट रहेगा। तो चलिए तब आपको अब हम poultry farm बिज़नेस से जुडी सभी जानकारी इस आर्टिकल की मदद से देने वाले है तो चलिए बिना देरी किये शुरू करते है।

Poultry Farming Business Plan in Hindi

मुर्गी पालन क्या है और इस बिजनेस को कैसे शुरू करे ?

औसतन एक मुर्गी एक साल में 180 से 270 अंडे देती है। अंडे से निकले चूजे 5 से 6 महीने की उम्र में अंडे देना शुरू करती है, लगभग 3 साल तक अंडे देती है। पोल्ट्री फॉर्म में ब्रायलर मीट और अंडे के लिए मुर्गियों को पाला जाता है।

  • मुर्गी पालन व्यवसाय के बारे में जानकारी प्राप्त करे :- अगर आपको poultry farming के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है तो सबसे पहले इसके बारे में जानकारी जुटाए। जानकारी जुटाने के लिए अपने पास के पोल्ट्री फार्म के मालिकों से मिले।जितनी अधिक जानकारी आपके पास होगी , उतना ही बेहतर आपके बिजनेस के लिए होगा।
  • सही जगह की आवश्यक्ता :- इसके लिए कुछ अधिक जगह की आवश्यकता पड़ती है। इस व्यापार में इस्तेमाल होने वाली जगह का बहुत बड़ी भूमिका होती है। ध्यान रहे की पोल्ट्री फॉर्म के लिए इस्तेमाल होने वाली जगह लम्बी और साफ होनी चाइये, कोशिश करे की जगह शहर से थोड़ी दूर को ताकि मुर्गिओं को वाहनों की आवाज से कुछ परेशानी न हो, मुर्गी पालन वाली जगह पर पानी की कमी न हो और आपके मुर्गी पालन तक गाड़िया आराम से आ और जा सके।
  • मुर्गियों के प्रकार :- मुर्गी पालन के बिजनेस में आपको सबसे पहले निर्णय लेना होता है की आप किस तरह की मुर्गी पालना चाहते है। मुर्गी कुल तीन प्रकार की होती है, पहली लेयर मुर्गी, दूसरी ब्रायलर मुर्गी और तीसरी देसी मुर्गी शामिल है।
    • लेयर मुर्गी (Layer Chicken):- मुर्गियां मुर्गियों की ऐसी विशेष प्रजाति हैं, जिन्हें एक दिन की उम्र से ही पालने की जरूरत होती है। वे 18-19 सप्ताह की उम्र से व्यावसायिक रूप से अंडे देना शुरू कर देते हैं। वे अपनी 72-78 सप्ताह की आयु तक लगातार अंडे देना जारी रखते हैं। इसके बाद तब इनको मांस के लिए बेच दिया जाता है।
    • ब्रायलर मुर्गी (Broiler Chicken) :- ब्रॉयलर चिकन होता को अधिकतर विशेष रूप से मांस उत्पादन के लिए पाला जाता है। अधिकांश व्यावसायिक ब्रॉयलर चार से सात सप्ताह की उम्र के बीच अपने पुरे वजन तक पहुंच जाते हैं, हालांकि धीमी गति से बढ़ने वाली नस्लें लगभग 14 सप्ताह की उम्र में अपने पुरे वजन तक पहुंच जाती हैं।
    • देसी मुर्गी (Desi Chicken) :- इनका इस्तेमाल अंडे व मांस दोनों पाने के लिए किया जाता है। आप किस तरह की मुर्गी का पालन करना चाहते है वह निर्णय ले। उसी हिसाब से आपको अपने मुर्गी पालन बिज़नेस के लिए चूज़ों को खरीदना होगा।
  • चूज़े कहाँ से ले :- अब बारी आती है चूज़ों को लाने की। तो आपको बता दे की पोल्ट्री फार्मिंग में चूज़ों का बहुत ही अधिक महत्त्व है इनके बिना यह बिजनेस मुमकिन नहीं। इसलिए आप जहाँ कहीं से भी इन्हें लाये इतना ध्यान रखे की ये बिमारी से ग्रसित न हो इसके लिए आप किसी एक्सपर्ट की सलाह ले सकते है। ज्यादातर चूजों की कीमत 30 से 35 रुपये के आसपास होती है आप 3000 से 3500 में 100 चूज़े खरीद सकते है।
  • खाने का इंतज़ाम :- अब बारी आती है उनके लिए खाने के इंतज़ाम करने की। तो आप मुर्गियों को कई अलग-अलग तरह का चारा दे सकते है जैसे की अलसी , मक्का आदि। यह दोनों ही काफी पौष्टिक होते है और growth में मदद करते है। अगर ठीक से खाना दिया जाए तो एक चूज़े को 1 किलो वजन करने में लगभग 45 से 55 दिन लग सकते है। वजन बहुत ही आवश्यक होता है इसलिए खाने पर ध्यान दे। मुर्गा मुर्गियों के खिलाने वाले दाने की कीमत ₹30 किलो है।

चूजे होने और फिर उनसे मुर्गियां बनने तक तीन तरह के दाने खिलाए जाते हैं। प्री स्टार्टर दाना जो 10 दिन तक के चूजे को खिलाया जाता है, फिर उसके बाद फिर 11 से 20 दिन के ब्रायलर चूजे के लिए स्टार्टर फीड और 21 दिन से मार्केट में बेचने तक समय ब्रायलर मुर्गे को फीनिशर फीड खिलाया जाता है।

  • मुर्गियों को मार्केट पहुंचाना :- पोल्ट्री फार्मिंग की आखिरी स्टेप होती है आपके सामान को मार्किट में भेजने की। अगर आप अंडे बेचते है तो उनके आपको 4.5 से 5 रुपये तक मिल सकते है वहीँ अगर आप मुर्गी को बेचते है तो आपको इसके वजन के हिसाब से पैसे मिल सकते है। इसलिए अच्छा मुर्गी के लिए खाना बहुत ही ज्यादा जरुरी है तब ही आप ज्यादा लाभ प्राप्त कर पाएंगे।

मुर्गीपालन हेतु जरुरी सामान (Items needed for poultry farming)

Poultry farm business plan के लिए निम्नलिखित जरुरी सामान चाहिये-

  • मुर्गियों का चारा :- मक्का, अलसी, चावल आदि।
  • अंडे रखने की ट्रे :- यह अंडे रखने के काम में आता है, ताकि अंडे सुरक्षित रहें।
  • कैरेट :- इसमें ट्रे को एक दूसरे के ऊपर रखकर पैक कर देते हैं।
  • अपशिस्ट निवारण सिस्टम :- इसमें मुर्गियों के मल पदार्थ को खेतों में प्रयुक्त होने लायक खाद में बदल देते हैं।
  • ब्रूडिंग मशीन :- यह एक ऐसी device है जिससे पूरे फार्महाउस का तापमान नियंत्रित रहता है।
  • हीटर
  • लकड़ी का पाउडर

मुर्गी पालन पंजीकरण बिज़नेस को रजिस्टर कहां करें (Where to register the poultry farming registration business)

Poultry farming business शुरू करने के लिए आपको लाइसेंस और परमिशन की जरूरत पड़ती है लेकिन आप या बहुत ही आसानी के साथ प्राप्त कर सकते हैं क्योंकि आज के टाइम पर गवर्नमेंट सभी बिजनेस को बहुत ही ज्यादा प्रमोट कर रहा है इसलिए आप इसमें बहुत ही आसानी के साथ लाइसेंस और परमिशन पा सकते हैं।

आप अपने पोल्ट्री फार्म को एमएसएमई के द्वारा एक कंपनी अथवा एमएसएमई के ज़रिये पंजीकृत करें। एमएसएमई की सहायता से उद्योग आधार का पंजीकरण आसानी से हो जाता है। ऑनलाइन पंजिकरण के लिए वेबसाईट udyogaadhar.gov.in पर विजिट करें।

मुर्गी पालन के लिए बैंक से लोन (Loan from Bank for Poultry Farming)

इस बिज़नेस को शुरू करने के लिए भारत सरकार भी आपकी मदद करती है। मदद कैसे करती है वो हम आपको बताने वाले है, कल्पना कीजिये कि आप पोल्ट्री फॉर्म की स्थापना करना चाहते हैं और इसका बजट 1 लाख रूपए का बनाया है तो सरकार इस पर सब्सिडी प्रदान करती है eneral category वालों को 25% प्रतिशत यानि 25000 रू की सब्सिडी और यदि आप ST / SC category के हों, तो 35% प्रतिशत रू 35000 की सब्सिडी देती हैं। आपको बतादे की ये सब्सिडी NABARD और एमएएमसई द्वारा दी जाती है. इसी तरह आप कम खर्च में पेन बनाने का व्यापार शुरू कर सकते है।

नाबार्ड की वेबसाइट https://www.nabard.org/hindi/ मुर्गी पालन करने कई बैंक भी सस्ती दर में लोन मुहैया कराती है। यहां से आसानी से सब्सिडी वाला लोन आपको मिल सकता है। इसके लिए आपको ड्राइविंग लाइसेंस आधार कार्ड जैसे आईडी प्रूफ दिखाना होता है। मुर्गी पालन से संबंधित लोन लगभग हर बैंक में उपलब्ध है, यह कृषि स्वरोजगार के अंतर्गत आता है।

अगर आप इस बिज़नेस को शुरू करना चाहते है और आपके पास पैसे नहीं है तो भारत सरकार ने एक स्कीम चलायी हुई है जिसका नाम है प्रदानमंत्री मुद्रा योजना इसके अंतर्गत आपको ये बिज़नेस शुरू करने के लिए बेहद कम ब्याज पर भारत सरकार दुवारा लोन दिया जाता है।

इस व्यवसाय के लिए लिए गए ऋण पर 0% की दर लागू होती है, यानि मूलधन के अलावा आपको किसी तरह का व्याज बैंक को लौटाने की ज़रुरत नहीं पड़ती है।

मुर्गी पालन से होने वाली आमदनी (Income From Poultry Farming)

अब हम आपको बताने वाले है की अगर आप मुर्गी पालन का बिज़नेस शुरू करते है तो आपको कितनी आमदनी हो सकती है – आप यह तो जानते ही होंगे की अंडे और मुर्गे की मीट की मांग पुरे साल रहती है तो अगर आप इस बिज़नेस को शुरू करते है तो इसे आप काफी अच्छी कमाई कर सकते है।

उदहारण के तोर पर आपको बतादे की 4 महीने में एक चूजा अंडा देने लायक हो जाता है और हर अंडे पर 3 रुपए 30 पैसे तक की लागत आती है और मार्केट में थोक एक अंडे की कीमत ₹4.70 है। तो इस हिसाब से आपको हर अंडे पर लगभग डेढ़ रुपए का फायदा होगा। इस तरह से देखा जाए तो अगर आप 10000 लेयर बर्ड का फॉर्म शुरू करते है तो आपको रोजाना ₹15000 का फायदा फार्म शुरू होने के 4 महीने के बाद से शुरू हो जाएगा।

पोल्ट्री फार्म शुरु करने की लागत (Poultry Farm Starting Cost)

पोल्ट्री फार्मिंग व्यवसाय शुरू करने के लिए आपको जितनी धनराशि की आवश्यकता होगी, वह मुख्य रूप से व्यवसाय के आकार पर निर्भर करेगी। पोल्ट्री फार्म छोटे पैमाने से लेकर बड़े पैमाने लगाया जा सकता है और अगर आप इसे छोटे पैमाने से शुरू करते है तो इसके लिए कुछ 50,000 रूपये से डेढ़ लाख रूपये तक की लागत आती है और फिर आप पोल्ट्री फार्म के बिजनेस को आगे धीरे-धीरे बढ़ा सकते हैं। मीडियम साइज के पोल्ट्री फार्म खोलने के लिए डेढ़ से 3 लाख रुपए तक का खर्चा आ सकता है और बड़े पैमाने पर पोल्ट्री फार्म के लिए, आपको लगभग 7 लाख रुपये से लेकर 10 लाख रुपये तक का निवेश करना होगा। जिला सहकारी बैंक और सरकारी बैंक से रोजगार करने के लिए सबसे ब्याज सब्सिडी का लोन भी आसानी से उपलब्ध हो जाता है, जिसकी जानकारी हमने आपको ऊपर बतादि है।

उदहारण के तोर पर, एक चूजे की कीमत लगभग 30 से 35 रुपये के आसपास होती है। यदि 1000 चूजों से आप मुर्गीपालन की शुरुआत करते हो तो 1000 X 35 =35000 रुपये चूजों की खरीद पर तथा 70 से 80 हजार रुपये फार्म के निर्माण पर तथा मुर्गियों के चारे और अन्य व्यय मिलाकर लगभग 1,50,000 रुपये तक लग सकते हैं।

उम्मीद है आपको हमारे इस आर्टिकल में मुर्गी पालन का व्यापार बिजनेस कैसे शुरू करें/How to Poultry Farming के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर फिर भी आप इस बारे में कुछ पूछना चाहते हैं, तो बेझिझक हमें कमेंट सेक्शन में मैसेज करें और हम आपका जवाब जरूर देंगे।

Read Also :

Leave a Comment

Bhool Bhulaiyaa 2 Box Office Collection Day 2 Petrol Diesel Prices Cut: छह महीने बाद सरकार ने फिर दी राहत Memphis Grizzlies finish Minnesota Timberwolves in 6 for first series win since ’15 KGF Chapter 2 box office collection Day 16: Yash’s film crosses Rs 950 crore milestone Benedict Cumberbatch to house Ukrainian family who fled after Russian attack